ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

RuPay कार्ड से पेमेंट में CVV की टेंशन खत्म, कार्ड डिटेल याद न हो तो भी कर पाएंगे भुगतान

पेमेंट करते समय आपको बस अपने मोबाइल नंबर पर रिसीव हुए OTP की जरूरत होगी.
BQP HindiBQ डेस्क
06:27 PM IST, 15 May 2023BQP Hindi
BQP Hindi
BQP Hindi
Follow us on Google NewsBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP Hindi

अमेजॉन-फ्लिपकार्ट, जोमैटो-स्विगी, IRCTC, ONDC या अन्य किसी प्लेटफॉर्म पर अगर आप अपने RuPay कार्ड से पेमेंट करते हैं तो आपको कार्ड ​की कोई डिटेल याद रखने की जरूरत नहीं है. आपको कार्ड के पीछे दर्ज CVV कोड डालने की भी जरूरत नहीं. पेमेंट करते समय आपको बस अपने मोबाइल नंबर पर रिसीव हुए OTP की जरूरत होगी.

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने सोमवार को ये जानकारी दी है. PTI की रिपोर्ट के अनुसार, अगर आपके पास RuPay का क्रेडिट कार्ड हो, ​डेबिट कार्ड हो या फिर प्रीपेड कार्ड, अब आपको ई-कॉमर्स या अन्य प्लेटफॉर्म पर ऑनलाइन पेमेंट करते हुए CVV कोड यानी Card Verification Value की जरूरत नहीं पड़ेगी.

एक क्लिक में होगा पेमेंट

NPCI ने कहा कि RuPay ने अब अपने डेबिट, क्रेडिट कार्ड के लिए 'CVV के बिना' भुगतान का विकल्प शुरू किया है. निगम ने बताया कि ये सुविधा उन कार्डधारकों को दी जाएगी, जिन्होंने सेलर्स या सर्विस प्रोवाइडर्स की वेबसाइट पर या फिर उनके मोबाइल ऐप पर अपने कार्ड को टोकनाइज (Tokenize) किया हो.

अपने बयान में NPCI ने कहा है, 'इस नए CVV-रहित एक्सपीरिएंस में ये सुनिश्चित किया गया है कि कार्डधारक को अपने वॉलेट तक पहुंचने या फिर कार्ड की डिटेल्स याद रखने की जरूरत नहीं होगी. ऐसा तब होगा, जब ग्राहक ने ई-कॉमर्स विक्रेता के प्लेटफॉर्म या वेबसाइट पर अपने कार्ड की डिटेल सेव कर रखा हो.'

कार्ड डिटेल याद रखने की टेंशन खत्म

पहले कार्ड की बाकी डिटेल यानी कार्ड का नंबर, कार्डधारक का नाम, कार्ड की एक्सपायरी यानी समाप्ति तिथि, ई-कॉमर्स वेबसाइट पर सेव रहने के बाद भी CVV कोड डालना पड़ता था और फिर मोबाइल नंबर पर रिसीव हुआ OTP डालकर पेमेंट करना होता है. नई व्यवस्था के तहत CVV नहीं डालना होगा. यानी बाकी डिटेल पहले से सेव रहेगी और CVV की जरूरत नहीं पड़ेगी. ऐसे में केवल OTP के जरिये पेमेंट होगा.

सु​रक्षित होगा ट्रांजैक्शन

टोकन व्यवस्था के तहत कार्ड के वास्तविक ब्योरे की जगह 'कूट संख्या' यानी टोकन नंबर का उपयोग किया जाता है. भारतीय रिजर्व बैंक की यह व्यवस्था लेन-देन के लिहाज से सुरक्षित मानी जाती है क्योंकि इसमें लेन-देन के समय कार्ड का वास्तविक ब्योरा विक्रेताओं या सर्विस प्रोवाइडर्स के साथ साझा नहीं किया जाता. ये ग्राहकों को साइबर धोखाधड़ी से बचाता है. बता दें कि इससे पहले VISA ने भी अपने कार्ड्स पर CVV-फ्री ट्रांजैक्शन की सुविधा दे रखी है.

BQP Hindi
लेखकBQ डेस्क
BQP Hindi
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT