भारत में H3N2 वायरस से पहली मौत, कर्नाटक और हरियाणा में 1-1 ने गंवाई जान

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक देश में करीब 90 मामले H3N2 संक्रमण के मिले हैं. जबकि 8 मामले H1N1 वायरस के हैं.
BQP Hindiमोहम्मद हामिद
Last Updated On  10 March 2023, 2:12 PMPublished On   10 March 2023, 2:12 PM
Follow us on Google NewsBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP HindiBQP Hindi

H3N2 Virus: जिसे साधारण सर्दी-बुखार वाला वायरस समझ रहे थे, अब H3N2 वायरस ने लोगों की जान लेना शुरू कर दिया है. इस वायरस से भारत में अबतक 2 लोगों की मौत हो चुकी है. इसमें से एक कर्नाटक में हुई है और एक हरियाणा में.

82 साल के बुजुर्ग की H3N2 ने ली जान

कर्नाटक में 82 साल के एक बुजुर्ग हीरे गौड़ा की जान इस वायरस ने ले ली है. स्वास्थ्य विभाग की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक 1 मार्च को हीरे गौड़ा की मौत हुई, जो कि इस वायरस से होने वाली पहली मौत है. जिला स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि हीरे गौड़ा डायबिटिक थे और हाइपरटेंशन से भी जूझ रहे थे.

स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि हीरे गौड़ा को खांसी, बुखार और बदनदर्द की शिकायत थी, उन्हें 24 फरवरी को हासन अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां उनकी मौत हो गई. 6 मार्च को सैम्पल टेस्ट के नतीजों से पता चला कि वो H3N2 वायरस से पीड़ित थे.

इन लोगों को संक्रमण का ज्यादा खतरा

इसके करीब 5 दिन पहले, अचानक और तेजी से बढ़ रहे इस वायरस के संक्रमण को लेकर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के सुधाकर ने अधिकारियों के साथ एक बैठक की. बैठक के बाद उन्होंने रिपोर्टर्स को बताया कि 15 साल से कम उम्र के बच्चों और 65 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों इसका संक्रमण देखा जा सकता है. गर्भवती महिलाओं को भी सतर्क रहने की जरूरत है.

बीते कुछ महीनों में देश में तेजी से फ्लू के मामले बढ़े हैं. इसमें से कई मामले H3N2 वायरस के संक्रमण के मिले हैं. जिसे हॉन्ग कॉन्ग फ्लू भी कहा जाता है. इस वायरस के संक्रमण के बाद मरीज को अस्पताल में भर्ती करना जरूरी हो जाता है, क्योंकि ये सामान्य बुखार से अलग होता है.

अबतक देश में H3N2 संक्रमण के 90 मामले

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक देश में करीब 90 मामले H3N2 संक्रमण के मिले हैं. जबकि 8 मामले H1N1 वायरस के हैं. H3N2 वायरस के लक्षण काफी हद तक कोविड से मिलते जुलते हैं. इसमें लगातार खांसी, सांस लेने में तकलीफ होती है. कई मरीज गले में खराश, बदनदर्द और डायरिया की भी शिकायत करते हैं. ये लक्षण करीब हफ्ते भर तक बने रह सकते हैं.

BQP Hindi
फॉलो करें